हर हाथ को रोजगार देना हमारा संकल्प- बृजमोहन

रायपुर I प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बिहान बाजार का शुभारंभ करते हुए कहा कि हमारा यह भारत देश गांवों में बसता है। भारत की संस्कृति, यहां की श्रेष्ठ परम्पराये ग्राम्य जीवन में ही दिखाई पड़ती है। परंतु अब ग्राम्य जीवन की तस्वीर भी बदल रही है। आजीविका के लिए शहर की ओर गांव बढ़ रहे है। ऐसे समय में इस क्षरण को रोकने के लिए हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने विशेष कार्ययोजना बनाई है। जिसमे हर हाथ को रोजगार देने की दिशा में हम काम कर रहे है। स्वसहायता समूह बनाकर उनकी कलाकृतियों , उनके बनाये उत्पादों को उचित मंच देने के लिए बिहान बाजार का आयोजन निश्चित ही सराहनीय है। ऐसे आयोजन से ग्रामीण आजीविका मिशन के कार्यों में तेजी आएगी और सार्थक परिणाम भी हमे मिलेंगे।  बृजमोहन ने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग गरीबी उन्मूलन की दिशा में अच्छा काम कर रहा है | हमें ऐसे आयोजन के माध्यम से एक बाजार दिलाने का अच्छा प्रयास हैं। बाजारवाद के इस दौर में राज्य की हमारी कला को जीवित रखने में यह आयोजन सार्थक सिद्ध होगा। इस अवसर पर उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता कर रहे सांसद रमेश बैस ने कहा कि ऐसे आयोजन से स्वसहायता समूह आर्थिक रूप से सक्षम होगा साथ ही छत्तीसगढ़ की कलाकृतियों को देश के सामने उभरने का अवसर भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली के ट्रेड फेयर में ताईवान के आर्टिफिसियल फूल अच्छे दामों में बिकते है जबकि हमारे छसत्तीसगढ़ की कलाकृति भी कही बेहतर है। ऐसा ही मंच मिलता रहे तो वो भी आगे बढ़ेंगे। उन्हें बाजार उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर ने कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग का मूल उद्देश्य गरीबी उन्मूलन ही रहा है। 1998 की केंद्र सरकार की योजनानुसार पारंपरिक कौशल को उभारने का काम चलता रहा। इसे अब मोदी जी की सरकार ने राष्ट्रीय अजीविका मिशन में ले लिया हैं। यह कार्यक्रम अब सफल हो रहा हैं। लोगो के जीवन में समृद्धि आ रही है। यह हमारे लिए संतोष की बात है। इस काम में गरीबों की सेवा का भाव दीखता है। पूरी गंभीरता के साथ हम इस नेक उद्देश्य को सफल बनाने में जुटे है। वन मंत्री महेश गागड़ा ने अपने विचार रखते हुए कहा कि आज के दौर में बाजार में टिके रहना जरुरी है। हमारी सरकार ग्रामीण कलाकारों को बेहतर रोजगार उपलब्ध करा रही हैं जिससे उनका जीवन खुशहाल हो रहा है। इस अवसर पर रायपुर जिला पंचायत की अध्यक्ष शारदा वर्मा, ग्रामीण एवं पंचायत विभाग के सचिव एमके राउत, पीसी मिश्रा आदि उपस्थित थे।
राष्ट्रपति -प्रधानमंत्री कार्यालय में छत्तीसगढ़ की कलाकृति
बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ का बेल मैटल, डोकरा शिल्प, कोसा,यहां की भित्ति चित्र, और बस्तर का वूडन आर्ट पूरी दुनिया में फेमस है। हम जब राष्ट्रपति भवन, प्रधानमंत्री कार्यालय आदि बड़ी जगहों पर जाते है तो अपने प्रदेश की कलाकृतियों को वहा देखकर हम गौरवान्वित होते है। हमारी कलाकृतियों की हमेशा सराहना होती है।
27 जिलों के 177 समूह हुए शामिल
छत्तीसगढ़ राज्य आजीविका मिशन की संचालक श्रीमती ऋतू सैन ने बताया कि 27 जिलों के 177 समूहों ने यहा हिस्सा लिया है। वे हस्त शिल्प, अपने गृह उद्योग में निर्मित खाद्य सामग्री आदि वे यहां बेंच रहे है।

Facebook Comments


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*