किसानों के प्रति निष्ठा के साथ काम करें कृषि अधिकारी-बृजमोहन

 किसानों की आय दोगुनी करने प्रधानमंत्री मोदी के लक्ष्य 2022 को करना है पूर्ण ।
कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने ली कृषि विभाग की प्रदेश स्तरीय समीक्षा बैठक।
● कहा किसानों की अंश पूंजी जेब से निकाले ग्रामीण कृषि अधिकारी , वरना होंगे निलंबित,30 जून तक दिया समय
रायपुर 15 जून 2017/ कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रदेश के समस्त जिला कृषि अधिकारियों की आज बैठक ली। राज्य कृषि प्रबंधन एवं विस्तार प्रशिक्षण संस्थान (समेती) के सेमिनार हाल में आयोजित हुई इस बैठक मेंअफसरों से उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने का लक्ष्य दिया है। हर हाल में उस लक्ष्य को हमे पाना है। इसके लिए किसानों के प्रति हम सभी को निष्ठा के साथ काम करने की आवश्यकता है। इसके लिए कृषि विभाग के सभी जमीनी अधिकारियों का कर्तव्य है कि वे किसानों को जागृत करें और खरीफ फसल के अलावा,रबी फसलसब्जियों की खेतीपशुपालन,मछली पालन करने आदि के लिए भी प्रेरित करें। साथ ही उनसे कहा कि विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के पास पहुंचने वाले किसानों की हर समस्या का निदान उनके माध्यम से हो ताकि किसानों भटकना ना पड़े। अन्य विभागों से तालमेल बनाते हुए किसानों को  लाभांवित करने की दिशा में काम करें। 
बैठक में श्री अग्रवाल ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना,जैविक खेती मिशन,एवं परंपरागत कृषि विकास योजना,गुजरात पैटर्नसौर सुजला योजना,फसल अवशेष प्रबंधन के विषय में चर्चा की। सर्वप्रथम स्वाईल हेल्थ कार्ड पर चर्चा की उन्होंने कहा कि हमारे लिए गौरव की बात है कि स्वाईल हेल्थ कार्ड बनाने का लक्ष्य पूरा करने में पूरे देश में हम नंबर वन हैं ।परंतु यह भी गंभीर विषय है कि कार्ड बनने के बाद अभी तक सभी किसानों को उनके स्वाईल हेल्थ कार्ड वितरित नहीं हो पाए है। बीते माह 14 जिले का मैंने दौरा किया इस दौरान स्वाईल हेल्थ कार्ड नहीं मिलने की शिकायतें मिली है । उन्होंने इस संबंध में जल्द कारवाई करने के निर्देश दिए हैं।
श्री अग्रवाल ने हर ब्लॉक में सॉइल टेस्टिंग मिनी लैब खोलने की बात कही और कहा कि एनजीओ या कोआपरेटिव संस्थाये यह लैब खोलना चाहे तो उन्हें आगे लेकर आये । इस हेतु60 प्रतिशत सब्सिडी केंद्र सरकार दे रही है। प्रदेश के सभी 650 कृषि सेवा केंद्र मे भी यह खुले ऐसा प्रयास हो। 
श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीते वर्ष 1लाख 49 हज़ार अऋणी किसानों ने अपने फसलों का बीमा कराया था । इस बार अऋणी किसानों में 25% किसान अपनी फसल का बीमा कराएं इसके लिए प्रयत्न करने की आवश्यकता है । ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों को लक्ष्य देकर ज्यादा से ज्यादा किसान अपनी फसलों का बीमा कराएं यह सुनिश्चित करें। 
उन्होंने जैविक खेती मिशन के संबंध में चर्चा करते हुए  दंतेवाड़ाबीजापुरसुकमानारायणपुरगरियाबंद जिले के प्रगति की जानकारी ली और कहा कि पूर्ण जैविक की दिशा में तेजी से आगे बढ़ना है। साल का लक्ष्य लेकर पूर्ण जैविक ये जिले बने ऐसी कोशिश होनी चाहिए। इस दौरान उन्होंने जिलावार बीज,खाद,कल्चर,बीजोपचार एवं भण्डारण की स्थिति की जानकारी ली।
किसानों को गुजरात पैटर्न पर उपकरणों की वितरण के संबंध में उन्होंने कहा कि इस ऑनलाइन प्रक्रिया के पालन के लिए सभी को प्रशिक्षित रहने की आवश्यकता है । जो किसान ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते हैऐसे किसानों से आवेदन लेकर उन्हें ऑनलाइन कराने की जिम्मेदारी कृषि विभाग के अफसरों की है। ताकि उनका आवेदन प्रक्रिया में आ सके । डीडीए कार्यालय में आया हुआ कोई भी किसान निराश होकर ना लौटे।
सौर सुजला योजना के संबंध में भी उन्होंने जिलों से जानकारी ली।
बैठक में श्री अग्रवाल ने कहा कि महासमुंद जिले की ग्राम हरदी में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत सूक्ष्म सिंचाई योजना का शुभारंभ किया गया है । यह क्रांतिकारी योजना है ।नदी किनारे के दो गांव के खेतों में पाइप लाइन बिछा कर टपक सिंचाई की जाएगी और किसान अपने खेतों में धान के साथ साथ अन्य कई फसल भी लेंगे। प्रदेश के अन्य जगहों पर ऐसी शुरुआत की जाएगी । किसानों को सूक्ष्म सिंचाई की तरफ लेकर जाने से उनकी बेहतरी के मार्ग खुलेंगे।
कृषि मंत्री ने मैं दलहन-तिलहन बीज वितरण उपलब्धता के बारे में जानकारी प्राप्त की । उन्होंने कहा कि किसान खेत की मेड़ों पर अरहर जरूर लगाए। इस दौरान अफसरों ने कहा कि सोसाइटियों से किसान खाद बीज आदि लेते हैं । उन  सोसायटियों दलहन- तिलहन के मिनि किट्स रखे जाने पर संस्थाओं को 4% कमीशन मांगे जाने की बात हो रही है। इस पर श्री अग्रवाल ने कहा कि मिनी किड्स हम किसानों को मुफ्त में उपलब्ध कराते हैं ऐसे में सहकारी हमे सहयोग करें।
इस बैठक में कृषि मंत्री ने विशेष रूप से फसल अवशेष प्रबंधन पर जोर दिया। फसल अवशेष पैरा आदि के खेतों में जलाने पर रोक लगाई गई है। ऐसा करने पर दंड का प्रावधान है। श्री अग्रवाल ने कहा कि इस हेतु किसानों को जागरूक करने के लिए प्रचार-प्रसार करें। 
बैठक में सचिव कृषि विभाग अनूप श्रीवास्तवबीज निगम के एमडी आलोक अवस्थीसंचालक कृषि विभाग एम.एस केरकेट्टासंयुक्त सचिव केसी पैकरा,डीडी मिश्रा आदि उपस्थित थे।

किसानों की अंश पूंजी जेब से निकाले अधिकारी
इस बैठक में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि कृषि विभाग व् उद्यानिकी विभाग के माध्यम से किसानों को अनुदान में जो उपकरण दिए जाते हैं उन उपकरणों की अंश राशि विभाग का मैदानी अफसर किसानों से लेकर विभाग में जमा करता है। परंतु वर्षों से विभाग के बहुत से अधिकारियों ने  किसानों द्वारा दिए गए प्रीमियम राशि को अभी तक विभाग में जमा नहीं कराया है। प्रदेश भर में यह राशि 15 करोड़ के ऊपर है। कई वर्षों से चल रही यह गलत परंपरा सही नहीं है। कृषि और उद्यानिकी विभाग के सभी मैदानी अधिकारियों को उन्होंने 30 जून तक यह राशि शासन के खाते में जमा कराने के निर्देश दिए हैं । भले ही अधिकारी आज किसी जिले में पदस्थ हो उन्होंने जब भी जहा के भी रूपये अपने पास रखे है तत्काल जमा करा दे। जमा न करने की स्थिति में उन्हें निलंबित करने हेतु आदेश जारी करने के निर्देश श्री अग्रवाल ने विभाग के उच्च अधिकारियों को आज दे दिए हैं।

Facebook Comments


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*